समर्थक

रविवार, 26 अप्रैल 2020

सफर के रोचक किस्से...

" जिन्दगी एक सफर हैं सुहाना
यहाँ कल क्या हो किसने जाना "
जीवन को एक अलग दृष्टिकोण देता , एक सदाबहार गीत

     जिन्दगी अनिश्चितताओं से भरा एक सफर तो हैं ही... किस पल क्या हो,  पता नहीं।हम अपनी योजनाएं  बनाते रहते हैं और जिंदगी एक पल में सब धराशाही कर देती हैं। खैर ,यहाँ मैं जिन्दगी के सफर की बात नहीं कर रही। " सफर " यानि " यात्रा " यानि वो यात्रा जो हम गाहे -बगाहें करते ही रहते हैं कभी जरूरत में, कभी मज़बूरीवश  ,कभी शौकिया और  कभी यूँ ही। मैंने भी अपने जीवन में बहुत सी यात्राए की हैं ज्यादातर जरूरतवश ही या मज़बूरी में। बचपन से लेकर अब तक मेरी लगभग हर यात्रा जाने -अनजाने ही एक अलग ही रोचक मोड़ ले लेती हैं.. जो उम्मीद से परे होता था...
     परन्तु ,हर सफर हमें कोई ना कोई सबक  जरूर देकर जाता था.... कुछ यात्राएं बेहद डरावनी भी रही.... जिसने ये समझा दिया कि -" किसे पता कब क्या हो " वैसे तो हमारी पूरी जीवन -यात्रा ही एक सबक हैं आपके जीवन का हर लम्हा आपको कुछ न कुछ सीखाने या समझाने ही आता हैं....बस,  हम ही उस पर गौर नहीं करते। जिसने भी गौर किया उसे जीवन जीने की कला आ गई। अब देखिये न ,ये " कोरोना काल " भी हमें कितना कुछ सीखा रहा हैं।  अभी तो हम इसकी चर्चा -परिचर्चा भी कर रहे हैं मगर जब ये " काल " का वक़्त गुजर जाएगा तब हम में से दस प्रतिशत लोग भी अगर इस सीख को याद रख लगे तब भी सृष्टि में बहुत कुछ बदलाव हो जाएगा। 
मेरे लिए तो ये कोरोना काल भी एक सफर ही साबित हो रहा हैं मगर हिंदी वाला  safar ( यात्रा )  नहीं इंग्लिश वाला suffer ( भुगतना ) . वैसे तो भुगत सब रहे हैं पर मैं परिवार से दूर हूँ तो...उसका दर्द ज्यादा हो रहा। जब भी परिवार के पास जाने की तैयारी कर रही हूँ....लॉकडाउन की तारीखे फिर से बढ़ जा रही हैं। अब देखते हैं, मेरा अगला " सफर " कब शुरू होने वाला हैं और कितना रोचक होगा " पता नहीं "वैसे दुआ यही करुँगी कि -बस सही सलामत घर पहुँच जाऊँ अपनों के पास। 

    खैर ,तो मैं बात कर रही थी अपने जीवन के रोमांचक यात्राओं के बारे में.... तो मेरे इस नए ब्लॉग में.... मैं आप सब से अपने सफर के कुछ रोचक किस्से साझा करुँगी ....मुझे उम्मीद हैं, आपको पढ़कर मजा आएगा और आप सोचने पर मजबूर भी होंगे कि -किसी एक इंसान के साथ इतनी सारी घटनाएं घट सकती हैं क्या ? यकीनन आप सब के साथ भी ऐसा कुछ हुआ  ही होगा पर शायद आपने गौर ना किया हो। तो मेरी ये यात्रा वृतांत पढ़कर आपको भी अपनी कहानी जरूर याद आएगी।  अगर याद आ जाए तो, आप भी अपने किस्से जरूर साझा करें....
 तो चले, इस रुके हुए पल में सफर की बाते करते हैं.....  






अँधा प्यार,अंधी भक्ति

       हमारी आदत होती है कला से कम और कलाकारों से ज्यादा जुड़नें की,खेल को कम खिलाड़ियों को ज्यादा महत्व देने की,भगवान की भक्ति कम मगर ढोंगी ब...